परीक्षा की संरचना

बिहार प्रारम्भिक (प्रशिक्षित) शिक्षक पात्रता परीक्षा-2017

इस परीक्षा में दो पत्र होंगेः-

  • प्रथम पत्र वर्ग I-V तक के शिक्षक बनने की पात्रता के लिए
  • द्वितीय पत्र वर्ग VI-VIII तक के शिक्षक बनने की पात्रता के लिए
  • प्रथम पत्र एवं द्वितीय पत्र - वैसे व्यक्ति जो वर्ग I-VIII तक के दोनों स्तर में शिक्षक बनने की पात्रता हासिल करना चाहते हों उन्हें दोनों पत्रों में उत्तीर्णता प्राप्त करनी होगी।

प्रथम पत्र के अन्तर्गत प्रश्न एवं अंकः-


क्रमांक विषय प्रश्न अंक
1 बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र 30 प्रश्न 30

परीक्षा की अवधि 2 घंटा 30 मिनट

2 भाषा I   (हिन्दी /उर्दू / बंगला / मैथिली / अंग्रेजी में से कोई एक) 30 प्रश्न 30
3 भाषा II  (हिन्दी /उर्दू / बंगला / मैथिली / अंग्रेजी में से कोई एक) 30 प्रश्न 30
4 गणित 30 प्रश्न 30
5 पर्यावरण अध्ययन 30 प्रश्न 30
  कुल प्रश्नों/अंकों का योग 150 प्रश्न 150 अंक

नोट : भाषा I में जिस भाषा का चयन किया जाएगा भाषा II में उस भाषा का चयन नहीं किया जाये |

द्वितीय पत्र के अन्तर्गत प्रश्न एवं अंकः-


क्रमांक विषय प्रश्न अंक
1 बाल विकास एवं शिक्षा शास्त्र 30 प्रश्न 30

परीक्षा की अवधि 2 घंटा 30 मिनट

2 भाषा I   (हिन्दी /उर्दू / बंगला / मैथिली / भोजपुरी / संस्कृत / अरबी / फ़ारसी /अंग्रेजी में से कोई एक) 30 प्रश्न 30
3 भाषा II (हिन्दी /उर्दू / बंगला / मैथिली / भोजपुरी / संस्कृत / अरबी / फ़ारसी /अंग्रेजी में से कोई एक ) 30 प्रश्न 30
4 गणित एवं विज्ञान अथवा समाज विज्ञान 60 प्रश्न 60
  कुल प्रश्नों/अंकों का योग 150 प्रश्न 150 अंक


नोट : भाषा I में जिस भाषा का चयन किया जाएगा भाषा II में उस भाषा का चयन नहीं किया जाये |

प्रथम पत्र के प्रश्न राज्य सरकार के द्वारा अनुमोदित कक्षा I-V तक के पाठ्यक्रम के आधार पर होंगे परन्तु प्रश्नों का कठिनाई स्तर एवं लगाव (Linkage) माध्यमिक स्तर का हो सकता है। इसी प्रकार द्वितीय पत्र के प्रश्न राज्य सरकार द्वारा अनुमोदित कक्षा VI-VIII तक के पाठ्यक्रम के आधार पर होंगे परन्तु प्रश्नों का कठिनाई स्तर एवं लगाव (Linkage) उच्चतर माध्यमिक स्तर का हो सकता है।

उत्तीर्णता मापदण्डः-
परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए कोटिवार उत्तीर्णता निम्नवत् हैः-

क्र0 सं0

वर्ग/कोटि

उत्तीर्णांक

1-

सामान्य पुरुष

90

2-

पिछड़ा वर्ग/अति पिछड़ा वर्ग/महिला/निःशक्त

83

3-

अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति

75


दोनों पत्र (पेपर) में शामिल होने वाले अभ्यर्थी को अलग-अलग हर पत्र/पेपर में निर्धारित उत्तीर्णांक प्राप्त करना अनिवार्य है।